डी टी सी, ड्राईवर और कंडेक्टर की उपर की कमाई

ज़ी टी वी और दिल्ली वार्ता (हिंदी मैगजीन) ने स्टिंग ओप्रेसन में ये दिखाया था की, डी टी सी, ड्राईवर ब्लूलाइन बस वालो से पैसे लेकर अपनी बस को धीरे चलाएंगे और ब्लूलाइन से पीछे रहेंगे! क्या कोई सोच सकता है की क्र्प्सन यहाँ पर भी है ?

3 comments:

सारा सच said...

100 mai se 99 baiman phir bhi mera bharat mahan

Shah Nawaz said...

एक सही ओर उठाया गया कदम.... आज ऐसी ही पत्रिकारिता की आवशयकता है. जानकारी के लिए धन्यवाद!

sajid said...

Bahut Bhadiya Sir