रोक सको तो रोक लो ....



जयादातर 8 से 10 तक के सभी बच्चे मोटर साइकिल पर ही स्कूल जाते है और कानून का मजाक उड़ाते है इसमें स्कूल वालो के साथ साथ उनके घर वाले भी उनको मोटर साइकिल दिलाकर उनका साथ देते है जो की खतरनाक है, पुलिश भी कुछ नहीं करती क्योकि या तो वो इनके रिस्तेदार होते है या कोई अफसर के या किसी नेता के रिश्तेदार होते है कुछ बच्चे दोस्तों को घुमाते है मोजमस्ती करते है क्या इनके माँ बाप ने कभी सोचा है की इन सब का और पेत्रोइल का खर्चा कहा से आता है कही आप crime को को बढ़ावा तो नहीं दे रहे, क्योकि चैन स्नाचिंग, चोरी, इत्यादी मे स्कूल के बच्चो का नाम भी आता है, जोकि आपके लिए और समाज के लिए खतरनाक है, ज़रा सोचिए.........

2 comments:

Kavita Prasad said...

अपने आज एक एय्सी सच्चाई को उजागर किया है, जिसे देख कर या तो हम मुह मोड़ लेते हैं या फिर आज कल की पीढ़ी को ही कोस के रह जातें हैं| हमें अपने और आस-पास के सभी बच्चों और हो सके तो उनके परिवारजनों से बात करनी चाहिए...

शुक्रिया|

सारा सच said...
This comment has been removed by the author.